जिस नजाकत से
ये लहरें मेरे पैरों को छूती हैं
यकीन नहीं होता
इन्होने कभी कश्तियाँ डुबोई होंगी..

51

Hindi |