बंदा परवर मैं वो बंदा हूँ के बहर-ए-ज़िन्दगी,
जिसके आगे सर झुका दूंगा खुदा हो जाएगा..
- आज़ाद अंसारी

00

Urdu |
arrow-leftarrow-right