कुछ तो कर आदाब-ए-महफ़िल का लिहाज़
यार, ये पहलू बदलना छोड़ दे..
– वसीम बरेलवी

10

Hindi |