ज़मींदोश होने के लिए खड़ा है आदमी
ख़ुद से ही अनजान बना है आदमी
सतरंगी रौशनी को छूने की चाहत में
मिट्टी के खिलौनों से खेलना भूल गया है आदमी ..

10

Hindi |