अरुण जेटली  और अमित शाह एक सुर में गाते
कभी धर्म कभी आस्था पर निर्लज्जता से जनता को उकसाते
जो कर रहे माहिलाओं का निरादार उनको भक्त बताते
हाजी अली भूल मंदिर मुद्दे पर वोटों की रोटी सेके जाते ..

10

Hindi |