कुछ तो कर आदाब-ए-महफ़िल का लिहाज़
यार, ये पहलू बदलना छोड़ दे..
– वसीम बरेलवी

00

Hindi |

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गये
और मैं था कि सच बोलता रह गया ।
– वसीम बरेलवी

00

Hindi |

आँधियों के इरादे तो अच्छे न थे,
ये दिया कैसे जलता हुआ रह गया।
– वसीम बरेलवी

00

Hindi |

Who is stopping you to think
beyond thoughts..

00

English |

Eat the tiger, fly the fish
If you don't know then make a Wish..

00

English |