अगर आंसुओं से ही मेरे ग़म की नुमाइश होती
तो सैलाब ला देता
पिघला लोहा सीने में रखना
आसां तो नहीं..

Lazeez exclusive content
10

Hindi |
arrow-leftarrow-right