Ik mulaaqaat aur chand nagme
tamaam umar ki baat ho gaye
kabhi aaye jo anjaan paheli se
woh aaj meri zaat ho gaye..

00

Urdu |

दिवाली को रौशनी का त्यौहार बनाएं
धूम - धड़ाकों का नहीं
This Diwali say No to Crackers..

23

Hindi |

Chaand ki manind tasveer hai teri
jisko din- raat seene se liye rehta hun..
ret ki chatt hai jaane kab gire
maaf karna dost main aaj bhi peeta hun..

चाँद की मानिंद तस्वीर है तेरी
जिसको दिन - रात सीने से लिए रहता हूँ ..
रेत की छत है जाने कब गिरे
माफ़ करना दोस्त मैं आज भी पीता हूँ ..

4320

Hindi |

कैसे माला गून्थु मैं

कोमल फूलों के सीने से
कैसे सुई पार करू मैं
हस्ती-गाती फुलवारी को
कैसे आखिर वीरान करूं मैं
नहीं समझ में आता मालिक
कैसे माला गून्थु मैं
इस बार बड़ी बरसात हुई

जिन पुष्पों को बढ़ते देखा
मंद धुप में खिलते देखा
अपने इन हाथों से जिनको सींचा
अब कैसे उनपर वार करूं मैं
नहीं समझ में आता मालिक
कैसे माला गून्थु मैं
इस बार बड़ी बरसात हुई

जिनकी भीनी खुशबू में खेला
तितलियों को जिनपर थिरकते देखा
अब माला एक पिरोने को
कैसे उनको हलाल करूं मैं
नहीं समझ में आता मालिक
कैसे माला गून्थु मैं
इस बार बड़ी बरसात हुई..

20

Hindi |

Cooking is good
when it's not about stories..

00

English |

बहुत मुश्किल है निभाना दस्तूर-ए-ज़िन्दगी
कुछ तुम कोशिश करो , कुछ हम करें ..

376

Hindi |

Kya zindagi hui, kya kahein..
main mae se aur mae mujhse
apna kaar-o-baar poochte hain.
(mae - sharaab)

01

Urdu

Naa itni peeo ki tamaam sheher ko khabar ho
naaraaz ho agar to bhi dil mein raho..

11

Hindi |

Ghumakkad hun aaj bhi,
kuch aisi hi fitrat hai,
har manzil ke baad
main fir karwaan mein hun..

घुमक्कड़ हूँ आज भी ,
कुछ ऐसी ही फितरत है ,
हर मंज़िल के बाद
मैं फिर कारवां में हूँ ..

40

Hindi |

Aao khelein tum-hum holi
laal gulaabi rango waali
pyaar se bhar dein jag saara
nafrat ka muhn kar dein kaala..

02

Hindi |

Gul khila to gulzaar mehka
teri yaad se aalam-e-arwah mehka
jaante hain tera saath mumkin nahi
bas isiliye rishi pee ke anjuman-e-jaam behka..

Details:
aalam-e-arwah - world of souls
anjuman-e-jaam - drinking in gathering (mehfil mein jaam)

10

Urdu |

Fareb kisne kiya kya kahein,
woh aaj bhi humaari dehleez par nahi aate..

Poocha bahut zamaane ne unki berukhi ka sabab,
par suna hai woh bas aankhon se bataate hain..

Deewaron par humaari aaj bhi chand khat aise hain,
jin par bhejne waale ka naam nahi..

Nabz dekh kar bola rishi chand marz aise bhi hain jahaan mein
jinka ilaaj mumkin nahi..

11

Urdu |